हिंदी शायरी

 
“लगने लगा प्यार अब उस हत तक गहरा
 कि चाहने लगी मैं उस हत तक
वो ग़म कि आसू भी जो मिले तुमसे
सोच में उल्चे वो मोती भी
शायद नसीब न हो कल मेरे कहने को”“जलाते हैं सौ सौ दिए हर इक मंदिर में
फिर भी नहीं जला एक दिया
इस दिल के अंदेरे को मिटाओ को!”

“सवाल हर वक़्त मेरे नसीब में
जवाब हर पल तेरे इंतज़ार में
पाना हर वक़्त मेरे ख्याल में
और खोना हर रोज़ तेरे उसूलों में”

“मोहब्बत का रंग जाता है कभी ज़िन्दगी से
पर इसके खुशबू नहीं
एक पुराणी किताब में रखा
मुरछाया ग़ुलाब जैसा…….”

“खिलेगा कोई रंग फिर मेरे बाग़ में
उड़ेगा कोई तराना फिर मेरे वीराने में
भैलेगा कोई खुशबू फिर मेरे ख़यालों में
और मिलेगा कोई जवाब मेरे सब सवालों को ।”

“अगर थम जाए वक़्त यहां
इस एक पल की ख़ामोशी में
कुछ तो होती मेरे अपने
एक पल ही सही एक सास ही सही”

“हज़ारों में लौटे हैं कल की परछाईयाँ
और हज़ारों में होगा फिर कल की नज़दीकियाँ
पर होता जब बस एक ही ‘आज’
क्यों न जियो इसे पूरी मज़ा से  ।”

“वो बेबस आँखों की कसूर ही क्या
जो है धक्की लंबी इंतज़ार से  “

“सपने भी हकीकत में बदलते हैं कभी कभी
सब कुछ तो नहीं
थोड़ा ही सही …….”

“अपने प्यारे कभी अजनबी सा बदलता है…
जब अपना कोई हमें बस सपना बनाता है ॥”

“हर प्यार अदूरा नहीं होता
हर ख्वाब पूरा नहीं होता
हर रात काला नहीं होता
और हर दिल को प्यार –
ज़रुरत नहीं होता…..॥”

“जानकार भी अनजान रहना पड़ता है जब
अपना कोई बस सपना बनाता हमें ॥”

“पहेलियाँ मत बुचावो
हे बादल अब तो तू बरसा
सावन के आने का इंतज़ार मत कर तू
आकर भीग दे सूखे इन हरियाली को
भर दे नयी जीवन
मुरचाये इन कलियों में”

 
Image source: Pixabay
(Visited 37 times, 1 visits today)

Sandy

A freelance writer and blogger by profession since October 2011, interested in writing over a wide range of topics. Hope you enjoy my writings. I belong to one of the beautiful places of the world, Kerala, nicknamed as 'God's own country'.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: